1:26 pm - Thursday December 8, 2016

आर्मी मेडिकल कैसे होता है ?

%e0%a4%86%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%ae%e0%a5%80-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a5%88%e0%a4%b8%e0%a5%87-%e0%a4%b9%e0%a5%8b%e0%a4%a4%e0%a4%be-%e0%a4%b9%e0%a5%88आर्मी मेडिकल कैसे होता है ? आर्मी रैली भर्ती मेडिकल टेस्ट – दौड़ के बाद होता है मेडिकल चेकअप…अगर युवा जागरूक हों तो आसानी से पास कर सकते हैं ये परीक्षा

शारीरिक फिटनेस और नापतोल में कड़ी मेहनत करके प्रतिभागी मेडिकल चेकअप तक पहुंचते हैं, लेकिन छोटी-छोटी गलतियों के कारण प्रतिभागी मेडिकल चेकअप के दौरान रिजेक्ट हो रहे हैं। वहीं, दौड़ में फेल हो रहे इन युवाओं का कहना है कि ज्यादातर गांवों में खेल स्टेडियम ही नहीं हैं। जिन में स्टेडियम हैं, उनमें अच्छे ट्रैक नहीं हैं। दूसरा उन्हें कोई गाइड करने वाला नहीं है की किस तरह से दौड़ना चाहिए। इस कारण वे शारीरिक फिट होते हुए भी दौड़ में पिछड़ रहे हैं।

1.    आर्मी रैली भर्ती के लिए उम्मीदवार को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ्  होना चाहिए।

2.    उम्मीदवार की छाती (सीना) अच्छी तरह से विकसित होना चाहिए और कम से कम 5 सेमी फुलाने की क्षमता होनी।

3.   आर्मी में भर्ती होने वाले जवानों को दोनों कानो से अच्छी तरह से सुनाई देना चाहिए।

4.    सैनिक जनरल ड्यूटी के उम्मीदवारों की दूर दृष्टि 6 /6 होनी चाहिए। सैनिक टेक्नीकल एवं अन्य कटेगरी दी दूर दृष्टि 6 /9 अथवा चिकित्सक की आवस्यकता अनुसार होना चाहिए।

5.    सेना में भर्ती होने वालों उम्मीदवारों को कलर विज़न नहीं होना चाहिए।

6.     आवेदक को नॉक नी, बाओ लेग, फ्लैट फुट नहीं होनी चाहिए।

7.     दांत प्राकृतिक रूप से स्वस्थ और पर्याप्त संख्या में होने चाहिए कम से कम 14 दंत पॉइंट्स ।

8.     प्राकृतिक स्वस्थ गम और दांत अर्थात न्यूनतम 14 दंत अंक की पर्याप्त संख्या होनी चाहिए।

9.     हड्डियों की विकृति (deformity of bones) नहीं होनी चाहिए।

10.   अण्डकोष-वृद्धि (hydrocele) नहीं होने चाहिए।

11.    आर्मी में भर्ती होने वाले उम्मीदवारों को बवासीर जैसी बीमारी नहीं होनी चाहिए

12.   पैदल सेना के लिए सैनिक जनरल ड्यूटी 6/6 नेत्र दृष्टि होनी चाहिए।

सेना भर्ती: मेडिकल जांच में अनफिट युवकों को मिल सकता है दूसरा मौका

मेडिकल प्रक्रिया के दौरान जो भी युवा अनफिट मिल रहे है उन्हें फिट करने के लिए 42 दिन का समय दिया जाता है। यदि 42 दिन बाद भी युवा फिट नहीं होता है तो उसे रिजेक्ट कर दिया जाएगा।

सेना भर्ती में मेडिकल के दौरान यदि अनफिट किए जाने पर आप संतुष्ट नहीं हैं तो दोबारा से अपील कर अपना रिव्यू (मेडिकल) करा सकते हैं। रिव्यू में पास होने पर आपको सेना का हिस्सा बनने के लिए एक अौर मौका मिल सकता है। वैसे तो सेना भर्ती में दौड़ के बाद कई चिकित्सकों का पैनल अभ्यर्थियों का मेडिकल करता है।

मेडिकल में अनफिट होने पर अभ्यर्थी को लगता है कि वह पूरी तरह सेना भर्ती प्रक्रिया से बाहर हो गया, लेकिन ऐसा नहीं है। मेडिकल के दौरान आपको किसी अस्थायी कारण से बाहर निकाल दिया जाता है और आप उससे संतुष्ट नहीं है, तो आपके पास एक और मौका है। नियमानुसार, आप अपना रिव्यू करा सकते हैं। इसके लिए सरकार के खाते में 40 रुपये रिव्यू फीस जमा करानी होगी। फीस जमा कराने के बाद आर्मी के स्पेशिएलिटी डाक्टरों से अपना मेडिकल दोबारा करा सकते हैं। रिव्यू मेडिकल में यदि पास होते हैं तो आपको रिटीन टेस्ट में बैठने का मौका मिलेगा। भर्ती निदेशक कर्नल वाईसी लोहूमी बताते हैं कि नियमानुसार मेडिकल में अनफिट रहने वाले अभ्यर्थी को अपील करनी होती है। इसके बाद दोबारा से मेडिकल कराया जा सकता है।

सेना भर्ती : मेडिकल प्रक्रिया में युवाओं के कान, दांत व नाक मिले अनफिट

– कान में ये मिली कमियां

– कान में काफी मेल

– कान की शेप ठीक नहीं

– कई युवाओं के कान में पर्दे में मिले छेद

– दांत में ये मिली कमियां

– काफी युवाओं के दांत टेड़े-मेडे मिले

– दांत टूटे हुए मिले

– काफी युवाओं के जाड में कीड़े मिले

– काफी युवाओं के मुंह से बदबू मिली

-नाक में ये मिली कमियां

– नाक की शेप ठीक नहीं

– नाक की हड्डी बढ़ी हुई मिली

Filed in: Defence Exam Guide, Exam Guide

No comments yet.

Leave a Reply

*
error: Content is protected !!