8:59 pm - Friday December 9, 2016

जब फौजी को लगी 5 गोलियां, कहा- ‘जंग हुआ तो 100 को मारकर आऊंगा

2_1474824661राजस्थान सीकर के रहने वाले रिटायर्ड फौजी दिगेंद्र सिंह एक बार फिर बॉर्डर पर पाकिस्तानी फौज का सामना करने को तैयार हैं। साल 1999 के करगिल वार में दिगेंद्र ने डटकर पाकिस्तानी फौज का सामना किया था। इस दौरान उन्हें पांच गोलियां भी लगी, फिर भी उन्होंने कुल 48 पाकिस्तानी सैनिकों और घुसपैठियों को मार गिराया था। काट दिया था पाकिस्तानी मेजर का सिर…
– दिगेंद्र सीकर जिले के झालरा गांव के रहनेवाले हैं। उड़ी हमले के बाद देश में तमाम जगहों से पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई की बात कही जा रही है।
– इनमें से एक है दिगेंद्र सिंह। उड़ी हमले के बाद एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि इस बार जंग हुई तो ये लडऩे के लिए बॉर्डर पर जरूर जाएंगे।
2005 में रिटायर हुए थे दिगेंद्र
– दिगेंद्र ने इंटरव्यू में कहा था कि अगर इंडिया-पाक का वॉर हुआ तो इंडिया की ओर से लड़ने की हरसंभव कोशिश करेंगे।
– जिस दिन वॉर की घोषणा होगी मैं बिस्तर उठाकर अपनी बटालियन के पास चला जाउंगा।
– अगर इंडियन गवर्नमेंट या मेरी बटालियन आदेश नहीं देगी तो इसके लिए हर संभव कोशिश करुंगा।
– उन्होंन कहा कि पिछली बार 48 को मारा था इस बार ये आंकड़ा 100 के पार पहुंचा दूंगा।
– 47 साल के दिगेद्र सिंह 2005 में रिटायर हुए थे। दिगेंद्र सेना की सबसे बेहतरीन बटालियन 2 राजपूताना रायफल्स में थे।
पाकिस्तानी मेजर का सिर काट फहराया था तिरंगा
– करगिल वॉर के दौरान दिगेंद्र ने चाकू से पाकिस्तान के मेजर अनवर का सिर काटकर उसमें तिरंगा फहराया था।
– दिगेन्द्र के मुताबिक, उनके पास वॉर का एक्सपीरियंस है। अगर लड़ने का मौका नहीं मिला तो क्या हुआ साथी फौजियों के लिए किसी काम तो आ सकता हूं।
– करगिल युद्ध में दिगेंद्र के सीने में 3, हाथ व पैर में एक-एक गोली लगी थी।
– युद्ध के बाद दिगेन्द्र सिंह को राष्ट्रपति डॉक्टर केआर नारायणन ने महावीर चक्र से नवाजा था।
– दिगेंद्र को इंडियन आर्मी को बेस्ट कोबरा कमांडो के रूप में भी जाना जाता था।
Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*
error: Content is protected !!