8:59 pm - Friday December 9, 2016

सरकार ने कहा, अगर नोट से स्याही नहीं उतर रही तो नोट नकली है!

real-currency-leaves-ink-if-rubbed

नई दिल्ली। वित्त सचिव शक्तिकांत दास ने मंगलवार को एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया। इसमें उन्होंने नोटों की कमी से जूझ रहे देशवासियों के लिए सरकार के नए कदमों की घोषणा की। कांफ्रेंस में ही दास ने बताया कि जिन नोटों का कलर नहीं निकल रहा है, उन्हें फेक (यानि नकली) नोट माना जाएं।

दरअसल एक रिपोर्टर ने उनसे पूछा था कि 2000 के नए नोट को रूई या किसी कपड़े से रगड़ने पर उसका कलर उतर रहा है। इसका जवाब देते हुए दास ने कहा कि नोटों की प्रिंटिंग में एक खास स्याही काम में ली जाती है। इस स्याही की यही खासियत हैं कि अगर इससे छपी हुई चीजों पर कपड़ा या कॉटन से हल्का सा रब करें तो कलर उतरने लगता है। इसलिए 2000 के नए नोट ऐसा करने पर स्याही छोड़ रहे हैं।

दास ने आगे बोलते हुए कहा कि अगर किसी नोट को कॉटन से रगड़ने पर स्याही नहीं उतरती है तो उसे फेक करंसी मानना चाहिए। कांफ्रेस में रिपोर्ट्स के बात करते हुए उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अगर किसी भी तरह की दिक्कत आ रही हैं तो वो निसंकोच सरकार को बताएं। उनकी समस्या का तुरंत समाधान किया जाएगा।

जन-धन खातों में 50 हजार से ज्यादा जमा होने पर है नजर

कांफ्रेंस में ही दास ने कहा कि जिन जन-धन खातों में 50 हजार से ज्यादा की रकम जमा कराई गई हैं, उन पर नजर रखी जा रही है। इसलिए किसी भी आदमी को किसी अन्य का पैसा जमा नहीं करवाना चाहिए।

Filed in: General Knowledge

No comments yet.

Leave a Reply

*
error: Content is protected !!