4:53 pm - Wednesday May 23, 2018

ऑनलाइन सेवाओं का शतक, सात डिजिटल एप भी हुए लांच

डिजिटल इंडिया की मुहिम में अव्वल हरियाणा में सुशासन दिवस पर एक साथ 12 विभागों की 100 से अधिक ऑनलाइन सेवाओं का तोहफा मिला। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सोमवार को सरल प्लेटफार्म, स्वच्छ मैप, दर्पण, होटलों में डिजिटल रजिस्टर, मोबाइल वीसी प्लेटफार्म और वन विभाग का एनओसी एप्लीकेशन लांच किया। सात नई डिजिटल सेवाओं से लोगों को सरकारी विभागों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे।

चंडीगढ़ स्थित हरियाणा सचिवालय में शहरी स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन के साथ मुख्यमंत्री ने 14 अप्रैल तक 30 विभागों की 380 नागरिक सेवाओं के डिजिटल माध्यम से एक ही प्लेटफार्म पर मिलने की घोषणा की।  26 जनवरी तक प्रदेश के 80 शहरों में स्वच्छता मैप एप्लीकेशन (एप) शुरू किया जाएगा जिसके बाद शहर और गांवों में गंदगी से निजात मिलेगी। 35 शहरों के लिए स्वच्छता मैप के एप्लीकेशन को सीएम ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान लांच किया।

ये डिजिटल सेवाएं हुईं शुरू

1. सरल प्लेटफार्म

ई-गवर्नेंस के तहत सरल प्लेटफार्म पर 12 विभागों की 100 से अधिक सेवाएं आनलाइन की गई हैं। पटवारियों को इन सेवाओं के डिजिटल प्रयोग के लिए 2500 टेबलेट दिए गए हैं ताकि वे प्रमाणपत्र का डिजिटली सत्यापन कर सकें। देश में पहली बार जमीनी स्तर का यह कार्य इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से किया जाएगा।

2. स्वच्छता मैप

इस एप्लीकेशन को अतिरिक्त संचालन की सुविधाओं के साथ केंद्र सरकार के स्वच्छता एप से जोड़ा गया है। गणतंत्र दिवस तक 80 शहरों के लोग इस एप पर गंदगी के फोटो डाल कर समस्या से तुरंत निदान पा सकेंगे। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि एप में गांवों को भी जोड़ने की प्रक्रिया शुरू की जाए ताकि वे भी अपने क्षेत्र में स्वच्छता के बारे में जानकारी दे सकें।

3. दर्पण

उपायुक्तों के लिए डैशबोर्ड (दर्पण) पर देशभर में चल रही परियोजनाओं की विश्लेषणात्मक समीक्षा के साथ राष्ट्रीय स्तरीय परियोजनाओं का अनूठा सर्वेंक्षण मौजूद रहेगा। डैशबोर्ड के जरिये राज्य सरकार की 11 सेवाएं और केंद्र सरकार की सात सेवाएं मुहैया कराई जा रही हैं।

4. होटलों में डिजिटल रजिस्टर

पूरे देश में हरियाणा पहला राज्य है जहां होटलों में आगुंतकों के लिए डिजिटल रजिस्टर होगा। योजना के तहत पुलिस के साथ वास्तविक समय का डाटा आनलाइन साझा किया जाएगा और दस्ती सत्यापन की जरूरत नहीं होगी। ओयो कंपनी द्वारा निर्मित इस एप की विशेषता है कि होटलों का डाटा संबंधित पुलिस थाने का इंचार्ज अपनी लॉगिन आइडी से ही देख पाएगा। वर्तमान में इस एप्लीकेशन पर  हरियाणा के 400 होटलों का डाटा 303 पुलिस थानों से जोड़ा गया है।

5. वन विभाग का एनओसी एप्लीकेशन

वन विभाग के एनओसी एप्लीकेशन को इसरो और सीडैक ने तैयार किया है जिसे जीआइएस के साथ एकीकृत किया गया है। इससे आटोमैटिक एनओसी (अनापत्ति प्रमाणपत्र) जारी होगा। इस एप में खंड वानिकी आधारित व्यापार संस्थाओं के लिए खंड वानिकी संबंधी स्पष्टïीकरण हेतु स्वत: स्वीकृति होगी।

6. मोबाइल वीडियो कांफ्रेंस प्लेटफार्म

मोबाइल वीडियो कांफ्रेंस प्लेटफार्म पर 30 वरिष्ठ आइएएस अधिकारी होंगे जिनके साथ मुख्यमंत्री या अन्य कोई भी अधिकारी वीडियो कांफ्रेंस के जरिये कहीं से कभी भी आपस में जुड़ सकेंगे। इस अवसर पर इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आइटी विभाग के प्रधान सचिव देवेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री को एक टेबलेट भी भेंट किया।

7. पांच हाईटेक ई-दिशा केंद्र

घरौंडा, करनाल, गोहाना, कुरुक्षेत्र  और रादौर के पांच ई-दिशा केंद्रों में अत्याधुनिक आधारभूत संरचना की शुरुआत हुई। डिजिटल सेवाओं के जरिये यहां लोगों के अधिकतर कामों का निपटान तेजी से होगा।

यह खबर आप हिन्दी रोजगार समाचारपत्र दैनिक एक्स्प्रेस वेबसाइट के द्वारा पढ़ रहे है।

कृप्या अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आए तो ज्यादा से ज्यादा शेयर एवम् लाइक करे:-www.fb.com/dainikexpress

हम खबरें छिपाते नहीं छापते है।

 

Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!