2:45 pm - Wednesday October 18, 2017

स्टिंग: यहां होनहारों के भ​विष्य से हो रहा खिलवाड़, सोशल साइट पर बिक रहे पेपर

बोर्ड एग्जाम होने वाले हैं, लेकिन इस राज्य में होनहारों के भविष्य ये​ खिलवाड़ किया जा रहा है। एग्जाम पेपर सोशल साइट पर धड़ल्ले से बिक रहे हैं। अमर उजाला की ओर से किए गए एक ​स्टिंग ऑपरेशन में यह सच सामने आया। प्रश्न पत्र तीन सौ से लेकर आठ सौ रुपये में बेचे जा रहे हैं। कक्षा 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं शुरू होने से पहले सोशल साइट पर इस तरह से प्रश्न पत्र बेचे जाने से कई सवाल खड़े हो गए हैं।

अमर उजाला की ओर से किए गए स्टिंग ऑपरेशन में यह बात सामने आई कि प्रश्न पत्रों को लीक कराकर और फिर इसे बेचने वाला गिरोह सोशल साइट का उपयोग कर रहे हैं। इतना ही नहीं सोशल साइट के जरिये प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। भिवानी बोर्ड से आए प्रश्नपत्रों को 300 रुपये से लेकर 800 रुपये में बेचा जा रहा है। इस बारे में न तो शिक्षा विभाग को ही जानकारी है और न ही प्रशासन को। उक्त गिरोह पिछले काफी समय से प्रश्नपत्रों को बेचने का काम कर रहा है।

ऐसे किया अमर उजाला ने खुलासा :- पेपर बेचने वाले गिरोह से अमर उजाला ने पहले एक सोशल साइट पर संपर्क किया गया। प्रश्नपत्र बेचने वाले एक व्यक्ति से कक्षा 9वीं व 11वीं के प्रश्नपत्र खरीदने के बारे में बात की। इस व्यक्ति ने फोन नंबर दे कर बात करने को कहा। जिसके बाद फोन व वाट्सएप के जरिये उक्त व्यक्ति से संपर्क किया गया तो उसने कहा कि हमारे पास कक्षा 11वीं व 9वीं के सभी प्रश्नपत्र उपलब्ध हैं।

दो से ढाई हजार में बाहर से मंगवाए जा रहे प्रश्नपत्र

व्यक्ति ने बताया कि शहर से बाहर किसी अन्य से 2 से ढाई हजार रुपये में कक्षा 9वीं व 11वीं के सभी प्रश्नपत्र खरीदे गए हैं। आगे इन प्रश्नपत्रों में से प्रत्येक विषय के प्रश्नपत्र को 300 से लेकर 800 रुपये में बेचा जा रहा है।

इस तरह से होती है प्रश्नपत्र बेचने की डील :- प्रश्नपत्र बेचने वाले इस गिरोह द्वारा सोशल साइट पर प्रश्नपत्र बेचने का प्रचार किया जाता है। इसके बाद जब स्कूलों के बच्चे व अन्य लोग प्रश्नपत्र खरीदने के लिए इनसे संपर्क करते हैं तो व्हाट्स एप या फोन के जरिये संपर्क में रहने को कहा जाता है। एक बार रेट फाइनल होने पर इस गिरोह के सदस्य पैसे लेकर प्रश्नपत्र व्हाट्स एप कर दिए जाते हैं।

कक्षा 9वीं व 11वीं के प्रश्नपत्र शुरुआत से ही हुए लीक :- 25 फरवरी से आरंभ हुई कक्षा 9वीं व 11वीं के प्रश्नपत्र इसी वजह से शुरुआत से ही लीक हो रहे हैं। कक्षा 11वीं के अंग्रेजी व हिंदी दोनों ही माध्यम के पेपर लीक हुए थे। कक्षा 9वीं का अंग्रेजी विषय का पेपर भी लीक हुआ था। कक्षा 9वीं के पेपर रद्द किए जा चुके हैं। कक्षा 11वीं के प्रश्नपत्र अभी भी आयोजित किए जा रहे हैं।

होनहार बच्चों के भविष्य से हो रहा है खिलवाड़

उक्त गिरोह तो प्रश्नपत्र बेचकर पैसे कमा रहा है। लेकिन इससे होनहार बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है। जो बच्चे आर्थिक रूप से दक्ष है। वो विद्यार्थी आसानी से प्रश्नपत्र खरीद लेते हैं।

अगर इस प्रकार का गिरोह सक्रिय है तो उक्त मामले की पुलिस की ओर से जांच की जानी चाहिए। हमारे संज्ञान में अभी ऐसा कोई मामला नहीं आया है। – संगीता बिश्नोई, उप जिला शिक्षा अधिकारी, हिसार

पेपर लीक करने या बेचने पर आईटी एक्ट के तहत केस दर्ज होगा। जिसमें दोषी को दो साल की कैद के अलावा एक लाख रुपये तक का जुर्माना हो सकता है। – लाल बहादुर खोवाल, एडवोकेट, हिसार

इस तरह का मामला जानकारी में नहीं आया। किसी के पास ऐसी सूचना हो तो पुलिस को शिकायत दें। आरोपी पर नियम अनुसार कानूनी कार्यवाही की जाएगी। – डीसी, निखिल गजराज, हिसार

हमारे पास सोशल मीडिया पर पेपर बिकने संबंधी अभी कोई शिकायत नहीं आई है। यदि ऐसा है तो साइबर सेल की टीम को मामले की जांच करने के आदेश दिए जाएंगे। यदि ऐसा है तो दोषी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी और उसे गिरफ्तार किया जाएगा। – राजेंद्र कुमार मीणा, एसपी हिसार

Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!