2:42 pm - Wednesday October 18, 2017

पढ़ें ये 20 साइंस फैक्ट्स, किताबों में नहीं मिलेंगे

  • शुक्र ग्रह का परिपथ 177 डिग्री तक झुक जाता है और यूरेनस 97 डिग्री तक
  • हर साल हमारे शरीर के लगभग 98 फीसदी परमाणु बदल जाते हैं।
  • गर्म पानी ठंडे पानी से ज्यादा भारी होता है।
  • सौर मंडल के सारे ग्रह बृहस्पति में समा सकते हैं।
  • ‘Scientist’शब्द पहली बार 1883 में प्रयोग किया गया था।
  • आसमान से गिरी हुई बिजली सूर्य से 5 गुना ज्यादा गर्म होती है।
  • अंतरिक्षयात्री :- जब अंतरिक्षयात्री अंतरिक्ष से वापिस आते हैं तब उनकी लंबाई 2 इंच बढ़ जाती है। इसका कारण यह है कि हमारी रीढ़ की हड्डी से जुड़ी लचीली हड्डियां गुरूत्व बल की गैरहाजिरी में फैलने लगती हैं।
  • एक व्यक्ति बिना खाए एक महीने रह सकती है लेकिन बिना पानी के 7 दिन। अगर शरीर में पानी की मात्रा 1 फीसदी कम हो जाए तो आप प्यास महसूस करने लगते हैं। अगर यह मात्रा 10 फीसदी कम हो जाए तो आपकी मौत हो जाएगी।
  • धरती, हमारा ग्रह धरती इकलौता ऐसा ग्रह है, जिसका नाम किसी देवता के ऊपर नहीं रखा गया है और ना ही पुल्लिंग रखा गया है।
  • क नजरिये से तापमान मापने के लिए सेल्सियस स्केल, फारेन्हाइट स्केल से ज्यादा अक्लमंदी से बनाया गया। लेकिन, इसके निर्माता ऐंड्रो सेल्सियस एक अक्कड़ स्वाभाव के वैज्ञानिक थे। जब उन्होंने पहली बार इस स्केल को विकसित किया, उन्होंने गलती से जमा दर्जा 100 ऊबाल दर्जा 0 डिग्री बनाया। उन्हें इस गलती को सही करने को कहने का हौसला कोई नहीं कर सका। वैज्ञानिकों ने स्केल को ठीक करने के लिए उनकी मृत्यु का इंतजार किया।
  • आकाशगंगा :- एक खगोलशास्त्री फ्रेंक ड्रेक ने अंतरिक्ष संबंधित कई तथ्यों को ध्यान में रखते हुए कई समीकरणों की मदद से दर्शाया कि हमारी आकाशगंगा (मंदाकिनी) में धरती के अलावा ऐसे और हजारों ग्रह हो सकते हैं जिन पर जीवन संभव हो सकता है। इतना ही नहीं 1974 में महान गणितज्ञ कार्ल सागन के अनुसार हमारी आकाशगंगा में ही 10 लाख सभ्यताएं होनी चाहिए।
  • रेडियोऐक्टिव तत्व अमेरिकैनियम-241 कई धूम्र पदार्थों में इस्तेमाल किया जाता है।
  • अंतरिक्ष :- अगर आप अंतरिक्ष में जाते हैं तो आप गला घुटने की बजाए शरीर के फटने से पहले मर जाएंगे क्योंकि वहां पर हवा का दबाव नहीं है।
  • अभी तक 1 उल्का पिंड द्वारा सिर्फ एक ही कृत्रिम उपग्रह को नष्ट किया गया है। यह उपग्रह यूरोपीयन स्पेस एजेंसी का ओलिंपिक्स (1993) था।
  • प्लूटोनियम सबसे पहला मानवनिर्मित तत्व है।
  • एक मध्यम आकार के बादल का वजन 80 हाथियों के बराबर होता है।
  • पानी का बनना :- जब हाइड्रोजन हवा में जलती है तो इस क्रिया के फलस्वरूप पानी बनता है।
  • प्रकाश को आकाशगंगा के एक छोर से दूसरे छोर तक जाने में 1,00,000 साल का समय लगता है।
  • ध्वनि की रफ्तारध्वनि हवा से ज्यादा स्टील में लगभग 15 गुना अधिक गति करेगी
  • जब एक जेट प्लेन की गति 1000 किमी. प्रति घंटा होती है तब उसकी लंबाई एक परमाणु घट जाती है।
Filed in: General Knowledge

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!