9:28 pm - Tuesday May 22, 2018

मुख्यमंत्री का 101 ब्राह्मण करेंगे ‘मैं काला ब्राह्मण हूं’ की तख्तियां लेकर स्वागत

काले ब्राह्मण को अपशकुन बताए जाने से खफा ब्राह्मïणों ने फैसला लिया है कि मुख्यमंत्री के स्वदेश लौटने पर ‘मैं काला ब्राह्मण हूं’ की तख्ती लेकर 101 ब्राह्मण उनका स्वागत करेंगे। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की तरफ से ली गई जूनियर इंजीनियर की परीक्षा में काला ब्राह्मण को अपशकुन बताए जाने के विरोध में सोमवार को दिल्ली स्थित हरियाणा भवन में प्रदेश के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा से मिलकर भी ब्राह्मणों ने क्षोभ जताया।

वल्र्ड ब्राह्मण फेडरेशन की भारतीय शाखा के चेयरमैन पंडित मांगेराम शर्मा के नेतृत्व में 21 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने शर्मा को ज्ञापन दिया है। इसमें चेतावनी दी गई कि यदि 18 मई से पहले आयोग के चेयरमैन भारतभूषण भारती से इस्तीफा नहीं लिया गया तो ब्राह्मण समाज बड़ा आंदोलन करेगा।

शर्मा से मिलने के बाद ब्राह्मण समाज के प्रतिनिधियों ने कहा कि मंगलवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल जब विदेश से इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचेंगे तो उनका 101 ब्राह्मण ‘मैं काला ब्राह्मण हूं’ की तख्तियां लेकर स्वागत करेंगे। ब्राह्मण समाज मुख्यमंत्री से सवाल करेगा कि ब्राह्मणों को देखकर उनके लिए क्या अपशकुन हुआ।

फेडरेशन के चेयरमैन मांगेराम शर्मा ने कहा कि जब आयोग के चेयरमैन भारतभूषण भारती ने यह स्वीकार कर लिया है कि आयोग के स्तर पर यह गलती हुई तो वह इस्तीफा क्यों नहीं दे रहे। भारती जब तक इस्तीफा नहीं देंगे तब तक इस प्रकरण की निष्पक्ष जांच नहीं हो सकेगी। फेडरेशन की भारत इकाई मुख्य महासचिव शशिकांत शर्मा ने कहा कि इसे लेकर ब्राह्मण समाज सहित अन्य सामाजिक संगठनों में भी रोष है। प्रतिनिधिमंडल में वल्र्ड ब्राह्मण फेडरेशन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष केसी पांडे, दिल्ली-एनसीआर के अध्यक्ष केपी शर्मा सहित अन्य शामिल थे।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी नाराज

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी इस सवाल पर नाराजगी जताई है। वल्र्ड ब्राह्मण फेडरेशन की भारतीय इकाई के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इस पूरे मामले में मुख्यमंत्री मनोहर लाल से बात करने का आश्वासन भी दिया है। फेडरेशन की भारत इकाई के अध्यक्ष एडवोकेट आरएस गोस्वामी ने बताया कि गृह मंत्री ने ऐसे सवाल पूछने को संकीर्ण मानसिकता का परिचायक करार दिया।

ये था मामला

कर्मचारी चयन आयोग द्वारा 10 अप्रैल को ली गई इस परीक्षा में 75वें नंबर के सवाल में पूछा गया था कि कौन-सा हरियाणा में अपशकुन नहीं माना जाता है? जवाब में चार विकल्प दिए गए जिसमें पहला खाली घड़ा, दूसरा फ्यूल भरा कास्केट, तीसरा काले ब्राह्मण से मिलना और चौथा ब्राह्मण कन्या को देखना था।

जूनियर सिविल इंजीनियर की लिखित परीक्षा का प्रश्‍न पत्र। अंतिम प्रश्‍न पर हंगामा मचा।

विवाद के बाद हटाया सवाल

परीक्षा की उत्तर कुंजी में सही उत्तर ब्राह्मण कन्या को देखना दर्शाया गया है। इसे इश्यू बनाते हुए अखिल भारतीय ब्राह्मण आरक्षण संघर्ष समिति ने कई स्थानों पर प्रदर्शन करते हुए पूछा कि क्या काले ब्राह्मण से मिलना अपशकुन है? इसके साथ ही दोषियों पर केस दर्ज करने की मांग को लेकर विभिन्न स्थानों पर ज्ञापन सौंपे गए।

यह खबर आप हिन्दी रोजगार समाचारपत्र  दैनिक एक्स्प्रेस वेबसाइट के द्वारा पढ़ रहे है।

कृप्या अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आए तो ज्यादा से ज्यादा शेयर एवम् लाइक करे:-www.fb.com/dainikexpress

हम खबरें छिपाते नहीं छापते है।

&nbsp

Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!