1:41 pm - Thursday November 15, 2018
Kindle Fire Coupon Kindle Fire Coupon 2012 Kindle DX Coupon 2012 Kindle Fire 2 Coupon Amazon Coupon Codes 2012 Kindle DX Coupon PlayStation Vita Coupon kindle touch coupon amazon coupon code kindle touch discount coupon kindle touch coupon 2012 logitech g27 coupon 2012 amazon discount codes

हरियाणा की राजनीति में जल्द आएगा भूचाल दुष्यंत चौटाला-राव इंद्रजीत सिंह की मुलाकात

इनेलो से निष्कासित दुष्यंत चौटाला ने की भाजपा सांसद से मुलाकात, नए समीकरण के संकेत

इनेलो का बिखराव परस्पर अलगाव की तरफ बढने से राजनीतिक अटकलों के बाजार मे नई नई खबरे पेश की जा रही है।जंहा यह खबर गर्म है कि अपने पिता के मार्गदर्शन मे दुष्यंत जल्द ही नई पार्टी की घोषणा करेंगे वंही विभिन्न राजनीतिक घटको से दुष्यंत के गठजोड वार्ता करने बारे इनपुटस चर्चा मे है।

राजनीतिक कयास हैं या महज चर्चा कि अहीरवाल के कद्दावर नेता राव इंद्रजीत व दुष्यंत चौटाला के बीच गम्भीर चर्चा का एक दौर सम्पन्न हो चुका है। सुत्रों द्वारा ज्ञात हुआ है कि गत शानिवार अजय सिंह के आवास 18 जनपथ पर इक्कट्ठा हुई भारी भीड़ से उत्साहित दुष्यतं चौटाला ने देर रात दिल्ली के एक होटल में केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत से मुलाकात कर आगामी वर्ष होने वाले लोकसभा और विधानसभा चुनावो पर चर्चा की ।

हालांकि मीटिंग में किन किन मुद्दो पर सहमति बनी उसकी तो कोई ठोस जानकारी नहीं मिल पाई है लेकिन दोनों नेताओं के हाव भाव को देखकर इतना जरूर कहा जा सकता है कि अब हरियाणा की राजनीति बड़ी करवट ले सकती है। एक ओर जंहा जननायक सेवा दल के नाम से नया लोकदल दुष्य॔त चौटाला की तरफ से गठित होने की सम्भावना है वहीं राव इंद्रजीत सिंह की इंसाफ पार्टी पहले से वजूद मे है। राजनीतिक पंडितों के अनुसार यदि दोनों साथ आते हैं तो 45-45 सीटों पर सहमति होने की उम्मीद है । क्योंकि राव इन्द्रजीत जंहा दक्षिण हरियाणा मे बडा जनाधार रखते हैं वंही अजय सिंह चौटाला शेष हरियाणा मे जनप्रिय नेता माने जाते हैं।

सूत्रों की माने तो राव इंद्रजीत अपनी बेटी आरती राव की जडे जमाना चाहते हैं जो भाजपा राजनीति मे सम्भव नही है । फिलहाल राव दुष्यतं चौटाला को मुख्यमंत्री के उम्मीदवार के रुप मे मन्जूर कर सकते हैं लेकिन कुछ शर्तो के साथ । हालांकि राव इंद्रजीत स्वयं भी मुख्यमंत्री पद की अति महत्वकांक्षा रखते हैं ऐसे मे यदि गठबंधन हुआ भी तो क्या राव साहब अपनी महत्वाकांक्षा का परित्याग कर बेटी आरती राव के लिए लम्बी पारी का कोई खेल खेलना चाहेंगे इस समझने के लिए अभी इन्तजार ही किया जाना बेहतर रहेगा ।

Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*