9:28 pm - Friday April 28, 2017

मोरनी की पहाड़ियों में बनेगा पहला वर्ल्ड हर्बल फॉरेस्ट, पतंजलि ने किया MOU साइन

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि वातावरण एवं जैव विविधता के अनुकूल मोरनी की पहाड़ियों में 53 हजार एकड़ भूमि पर अपनी तरह का दुनिया का पहला वर्ल्ड हर्बल फॉरेस्ट विकसित किया जाएगा। इसके लिए बुधवार को चंडीगढ़ में हरियाणा सरकार, वन विभाग और पतंजलि अनुसंधान संस्थान हरिद्वार के मध्य एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। प्रदेश में बढ़ेगा मेडिकल टूरिज्म…

  • हरियाणा सरकार की ओर से वन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आरआर जोवल और पतंजलि अनुसंधान संस्थान, हरिद्वार के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।
  • इस मौके पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि यह हर्बल फॉरेस्ट दुनियाभर के आयुर्वेद से संबंधित डॉक्टर्स एवं वैज्ञानिकों के लिए एक अच्छा प्लेटफॉर्म सिद्ध होगा, जहां वे भ्रमण कर औषधीय पौधों की जानकारी प्राप्त कर अनुसंधान कर सकेंगे।
  • उन्होंने कहा कि मोरनी क्षेत्र की पूरी भूमि यथावत संबंधित लोगों या वन विभाग के स्वामीत्व एवं अधिकार क्षेत्र में रहेगी। इस भूमि पर वर्तमान में लगे पौधों के संरक्षण के साथ-साथ देश में पाए जाने वाले करीब 25 हजार औषधीय पेड़ों, पौधों, लताओं और हर्ब्स को लगाया जाएगा।
  • उन्होंने कहा कि करीब 53 हजार एकड़ भूमि पर विकसित किए जा रहे इस फॉरेस्ट के लिए पतंजलि अनुसंधान संस्थान नि:शुल्क परामर्शदाता के तौर पर कार्य करेगा। इसके लिए वे पौधों की पहचान, पौधारोपण के लिए उपयुक्त क्षेत्र का चुनाव और वैज्ञानिक सहायता प्राप्त करवाएगा।

इन बातों पर भी रहेगा ध्यान :- 

  • इसके उपरान्त पतंजलि अनुसंधान संस्थान की सहायता से वन विभाग द्वारा वनस्पति एवं वासस्थल का नक्शा बनाने, पौधों की प्रजातियां की सूची बनाने, क्षेत्रवार मिट्टी परीक्षण करना, मॉडल तैयार करना और खरपतवार को नष्ट करने की प्रक्रियाओं पर कार्य योजना तैयार की जाएगी।
  • इस अवसर पर आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि वे इस फॉरेस्ट से कोई आर्थिक या व्यावसायिक लाभ नही लेंगे, बल्कि उनका उद्देश्य समाज सेवा के लिए उनके द्वारा बनाए गए पौधों के विश्व के धरातल पर उतारना है।
  • इसके अलावा पतंजलि अनुसंधान केन्द्र खाली जगहों पर औषधीय पौधों को लगाने, खरपतवार को साफ करने और चिकित्सा अनुसंधान के लिए आने वाले वैज्ञानिकों एवं विद्यार्थियों के लिए समुचित माहौल तैयार करने में भी सहयोग देंगे। लोगों की सुविधा के लिए फॉरेस्ट में एक चिकित्सा केन्द्र भी स्थापित करने का विचार है, जहां लोगों का प्राकृतिक तरीकों से उपचार किया जाएगा।
Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!