3:46 am - Tuesday October 24, 2017

नरवाना के मास्टरमाइंड कोचिंग सेंटर संचालक की बुक कराई बस में लखनऊ गए थे सॉल्वर

एचटेट, एचएसएससी क्लर्क भर्ती परीक्षा में आंसर-की लीक के बाद अब लखनऊ में इलाहाबाद हाईकोर्ट के असिस्टेंट रिव्यू ऑफिसर (एआरओ) की परीक्षा में हरियाणा का सॉल्वर्स गैंग पकड़ा गया है। उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स ने 12 फर्जी अभ्यर्थियों को गिरफ्तार किया है। इसमें हिसार और जींद के चार-चार युवक यूपी यूपी का एक सीआरपीएफ जवान और बिजनौर का एक युवक शामिल हैं।

आरोपितों में से कोई स्नातक है तो कोई स्नातक कर रहा है। अधिकतर क्लर्क भर्ती परीक्षा की कोचिंग ले रहे हैं। लखनऊ पुलिस ने सभी को सोमवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से उनको न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

इस गैंग का सरगना नरवाना निवासी दीपक सॉल्वर गैंग का है। वह नरवाना में विश्वकर्मा चौक पर कोचिंग सेंटर चलाता है। पकड़े गए आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि दीपक से उनकी मुलाकात हिसार के एक कोचिंग सेंटर में हुई थी। यहीं पर उन्होंने आरओ की परीक्षा में सेंध डालने की योजना बनाई। जींद के गांव काकड़ौद का जयदीप उसका दोस्त है। इन दोनों ने सॉल्वर्स के लखनऊ जाने के लिए 28 हजार रुपए में मिनी बस बुक कराई थी। इसी बस में शनिवार को पहले हिसार फिर नरवाना के बस अड्डे के पास से कुल 11 युवा चढ़े थे। ये सभी लखनऊ के लिए रवाना हुए। इन्हें लखनऊ में चार युवक मिले, जो इन्हें परीक्षा में दूसरों की जगह पर बैठाने वाले थे।

हाईटेक है सॉल्वर गैंग :- दीपक सॉल्वर युवकों को परीक्षा का प्रवेश पत्र व आईडी उपलब्ध कराता था। मोबाइल, हैंड फ्री और मक्खी के आकार का ईयर प्लग… सॉल्वर इन्हीं से फर्जीवाड़ा करते थे। सॉल्वर खास तरीके की सैंडो बनियान पहनते थे। बनियान के ऊपरी छोर में हैंड फ्री का तार सिला हुआ होता था जो कि दिखाई नहीं देता है। हैंड फ्री का एक सिरा अंडरवियर में छुपाकर रखे गए मोबाइल से जुड़ा होता था। सॉल्वर अपने कान में बहुत छोटे आकार का ब्लूटूथ ईयर प्लग लगाते थे। परीक्षा शुरू होते ही दीपक व उसके लोग सॉल्वर को कॉल करते थे। यह कॉल ईयर प्लग में अपने आप कनेक्ट हो जाती थी। सॉल्वर अपने प्रश्न पत्र का कोड बताता था। उधर से दीपक सही जवाब बताता था। यूपी एसटीएफ का कहना है कि इस मामले में हिसार और जींद के पुलिस अधीक्षकों से संपर्क करने का प्रयास किया जा रहा है।

Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!