5:04 pm - Monday May 29, 2017

एडेड स्कूलों के नियमित स्टाफ पर फैसला अगले सप्ताह, फाइनल प्रस्ताव तैयार करेगा शिक्षा विभाग

प्रदेश में अनुदान प्राप्त (एडेड) स्कूलों के नियमित शिक्षकों को सरकारी स्कूलों में समायोजित करने संबंधी पिछली सरकार का फैसला सिरे चढ़ा तो इसी साल इन स्कूलों का अनुदान बंद हो जाएगा। हालांकि अभी इसमें कई तरह की बाधाएं नजर आ रही हैं, फिर भी शिक्षा विभाग इन स्कूलों के टीचरों को लेने के लिए अगले सप्ताह तक फाइनल प्रस्ताव बना लेगा।

प्रदेश में करीब 204 स्कूल सरकारी सहायता पर चल रहे हैं। इनमें करीब दो हजार शिक्षक-गैर शिक्षक कर्मचारी स्वीकृत पदों पर काम कर रहे हैं। जिनकी 75 फीसदी सेलरी सरकार और 25 फीसदी सेलरी प्रबंधन समिति देती है। शिक्षा विभाग के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी पीके दास ने बताया कि एडेड स्कूलों के टीचिंग स्टाफ को समायोजित करने का मामला विचाराधीन है। सरकार और विभाग इस प्रस्ताव पर कई एंगल से विचार कर रहे हैं। इसमें 4 स्टेक होल्डर हैं।

नंबर एक टीचर, नंबर दो स्टूडेंट्स, नंबर तीन स्कूल प्रबंधन और नंबर 4 सरकार। समायोजन का फैसला करने से पहले सभी 4 स्टेक होल्डर्स के हितों का ध्यान रखा जाएगा। इसमें अभी तक यह क्लियर नहीं हो पा रहा है कि जो अनुदानित स्कूल अभी अपने नियमित शिक्षकों को वेतन की 25 फीसदी राशि भी नहीं दे पा रहे हैं, वे शेष स्टाफ को 100 फीसदी सेलरी कहां से देंगे? कहीं ऐसा तो नहीं है कि वे स्टूडेंट्स के लिए फीस में बेतहाशा बढ़ोत्तरी कर दें।

यह भी देखना पड़ेगा कि टीचिंग स्टाफ के समायोजन के बाद स्कूल बिल्डिंग और जमीन का क्या उपयोग होगा। कहीं ऐसा तो नहीं है कि प्रबंधन जमीन या बिल्डिंग का कामर्शियल उपयोग करना चाहता हो। ये स्कूल दानदाताओं और अन्य संगठनों के सहयोग से चल रहे हैं। इनमें अभी सरकारी स्कूलों वाला ही फीस स्ट्रक्चर है। इसी वजह से इनमें आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के बच्चों की संख्या ज्यादा है।

तुरंत प्रभाव से बंद होगा अनुदान : दास ने बताया कि जैसे ही एडेड स्कूलों का टीचिंग स्टाफ सरकारी स्कूलों में समायोजित होगा, वैसे ही सभी एडेड स्कूलों का अनुदान तुरंत प्रभाव से बंद कर दिया जाएगा।

रिटायरमेंट के साथ ही समाप्त होगी पोस्ट :- एडेड स्कूलों से आने वाले टीचिंग स्टाफ को सरकार अलग कैडर में रखेगी। उन्हें पूरा वेतन देकर सरकारी स्कूलों में लगाया जाएगा। जैसे-जैसे ये टीचर रिटायर होते जाएंगे, वैसे-वैसे पद खत्म होते जाएंगे।

स्टूडेंट्स का लर्निंग लेवल टेस्ट 20 को :- राज्य के सरकारी स्कूलों में स्टूडेंट्स का लर्निंग लेवल टेस्ट इस बार 20 जनवरी को लिया जाएगा। पहले की तरह ही विभागीय एसीएस पीके दास से लेकर जिला और ब्लॉक स्तर तक के अधिकारी स्कूलों में जाकर बच्चों से सवाल हल कराएंगे। उनके जवाब के आधार पर ही टीचरों की परफॉरमेंस रिपोर्ट तैयार की जाएगी। टेस्ट में इवन फॉर्मूले यानी 2, 4, 6, 8, 10 और 12 वीं क्लासों में यह टेस्ट लिया जाएगा।

Filed in: Education News

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!