5:57 pm - Wednesday December 7, 2016

कैसे पहचानें 2000 रुपए का नोट असली है या नकली, ऐसे लगाएं पता

नकली नोटों का शिकार आज के समय में लगभग हर कोई एक बार तो कोई शिकार हो चुका है। लेकिन नकली नोटों पाने के बाद हम उसे किसी दूसरे को चलाने की कोशिश करते हैं लेकिन जब आप बैंक में नकली नोट लेकर पहुंचते हैं तो बैंक उसपर रिजेक्टेड लिख देता है। उस वक्त आपको लगता है कि आपके पास नकली नोट आ कैसे गया?

जाली नोटों के लिए आरबीआई ने सभी बैंको दिशानिर्देश जारी किए हैं कि अगर किसी ग्राहक के पास नकली नोट मिलता है तो उसके नोट पर रिजेक्टेड लिख दिया जाए जिससे कि वह नोट फिर से बाजार में आगे न बढ़ पाए। ऐसे में बेहतर है कि आप जब कभी भी लोगों से नोट लें तो इन सावधनियों को जरूर बरते।

कैसे पहचानें 2000 रुपए का नकली नोट?

how-to-check-2000-rs-note-in-hindi

1. नोट पर नंबरों का साइज :- नंबरों का साइज असली नोट में नंबर पैनल पर लिखे गये नोट के नंबर के अंकों की संख्या बायें से दायें बढ़ते क्रम में दिखेगी। पहले तीन कैरेक्टर अंग्रेजी के अक्षर व अंकों का समूह होंगे और उन तीनों का साइज बराबर होगा।.

2. लेटेंट इमेज :– नोट पर गांधी जी की फोटो के साइड में लेटेंट इमेज होती है, जिसमें जितने का नोट है उसकी संख्या लिखी होती है। नोट की दायीं ओर लाल पट्टी पर 2000 लिखा होता है, जिसे आंख के पास रखकर देखने पर पढ़ा जा सकता है।

3. 2000 के नोट पर रेखाएं :- 1000 के नोट पर 7 रेखाएं होंगी, जो 5 के सेट में 1-2-1-2-1 के सेट में होंगी। यानि पहले एक रेखा, फिर दो बेहद करीब, , फिर एक रेखा ,फिर दो बेहर करीब और फिर एक रेखा। ये रेखाएं दाहिनी ओर कोने में बनी दिखाई देंगी। ये लाइनें दोनों ओर दिखती हैं।

4. वाटर मार्क :-  किसी भी नोट पर वाटर मार्क जरूर देखें। सभी असली नोटों में महात्मा गांधी की फोटो बनी है। उसी फोटो को हल्के शेड में वाटरमार्क में भी बनाया गया. नोट पर खाली दायें जगह पर गांधीजी की तस्वीर बनी होती है, जिस पर 2000 लिखा होता है जिसे आसानी से पढ़ा जा सकता है।

5. ऑप्टिकल वेरिएबल इंक :- हरे और नीले रंग से लिखा होता है । 2000 नोट के दायें तरफ़ 2000 लिखा होता है जो हरा दिखता है, लेकिन थोड़ा टेढ़ा करके देखने पर यह नीला रंगा का दिखायी देता है। इस विशेष इंक का इस्तेमाल 2000 और 500 के नोट में किया गया है। नोट में बीचों बीच लिखे 500 और 1000 के अंक को प्रिंट करने में इस इंक का उपयोग किया जाता है। जब नोट फ्लैट होता है तो ये अंक हरे रंग के दिखाई देते हैं और इसके एंगल को बदलने पर इनका कलर जाता है।

6. सुरक्षा निशान अल्ट्रा वॉयलेट रोशनी में दिखता है। :-  नोट के बायीं तरफ एक नंबर लिखा होता है जिसपर सुरक्षा निशान बना होता है जिसे अल्ट्रा वॉयलेट रोशनी में आसानी से देखा जा सकता है। फ्लोरेसेंस नोट पर नीचे की ओर विशेष नंबर होते हैं जो कि इसकी सीरीज को दर्शाते हें। इन्हें फोरेसेंस इंक से प्रिंट किया जाता है।

7. सिक्योरिटी थ्रेड :- पट्टी पर ‘RBI’,’भारत’ हरे और नीले रंग में लिखा होता है। नोट पर हरे रंग की एक पट्टी बनी होती है, जिसपर RBI और भारत लिखा होता है जिसे तिरछा करके देखने पर नीले रंग का दिखायी देता है। नकली नोट में ये काफी मोटा दिखाई देता है और आरबीआई व भारत क्लियर नहीं होता। ज्यादातर मार्केट में इसे ही ध्यान में रखकर असली नकली की पहचान की जाती ।

8. छूने पर महसूस किया जा सकता है। :- नोट पर दायें तरफ़ 2 हजार रुपए लिखा होता है, जोकि उभरा होता है जिसे छूकर महसूस किया जा सकता है।

9. इंटेग्लिओ प्रिंटिंग :- नोट पर विशेष प्रकार की प्रिटिंग इंक उपयोग की जाती है। इस इंक की वजह से महात्मा गांधी की फोटो, आरबीआई की सील और प्रोमाइसिस क्लॉस, आरबीआई गवर्नर के साइन.

10.नोट के छपने का वर्ष लिखा होता है। :- नोट के पीछे नोट के छपने का वर्ष लिखा होता है।

11. 2000 रुपए का नोट गुलाबी रंग का होगा। इसमें पीछे की ओर ‘मंगलयान’ की तस्वीर होगी। यह तस्वीर देश की तरक्की व उपलब्धि को बयां करेगी।

12. 2000 के नोट का आकार 66 mm x 166 mm होगा।

13. नोट पर गवर्नर उर्जित पटेल के हस्ताक्षर होंगे। नोट के पीछे ‘स्वच्छ भारत अभियान’ का लोगो होगा।

Filed in: General Knowledge

No comments yet.

Leave a Reply

*
error: Content is protected !!