11:22 pm - Thursday May 24, 2018

स्टाफ सिलेक्शन कमीशन के चेयरमैन BB भारती जांच पूरी होने तक सस्पेंड

मुख्यमंत्री के साथ हुई ब्राह्मण नेताओं की बैठक के बाद यह फैसला लिया गया है कि स्टाफ सिलेक्शन बोर्ड के चेयरमैन BB भारती को जांच पूरी होने तक सस्पेंड किया जाए। इस मामले में सीएम ने कहा कि जो कुछ भी हुआ है वह दुर्भाग्यपूर्ण है और इसमें Examiner के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

उल्लेखनीय है कि एचएसएससी की ओर से जूनियर इंजीनियर की परीक्षा में सवाल काले ब्राह्मण को देखना और ब्राह्मण कन्या को देखने वाले विवादित सवाल से नाराज समाज के लोगों को मनाने के लिए आज बैठक हो रही है। इनमें समुदाय का नेतृत्व शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा कर रहे है।

बुधवार को ब्राह्मण संघर्ष समिति के अध्यक्ष पंडित हरिराम दीक्षित के नेतृत्व में लोग सीएम से मिलने पहुंचे, लेकिन मुलाकात नहीं हो सकी। इसके बाद शिक्षा मंत्री ने सीएम से बात के लिए गुरुवार का दिन तय किया।

मंत्री समूह की बैठक में भी छाया रहा भारती के खिलाफ कार्रवाई का मुद्दा

हरियाणा मंत्री समूह की बुधवार देर रात तक चली बैठक में ब्राह्मणों पर पूछे गए विवादित सवाल का मुद्दा छाया रहा। रात करीब 11 बजे तक मुख्यमंत्री के निवास पर चली बैठक में अधिकतर मंत्रियों ने भारती के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की।

इसके बाद मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल ने ब्राह्मण समाज के प्रमुख लोगों, मंत्रियों और विधायकों को बातचीत के लिए बबृहस्‍पतिवार को बुलाया। बैठक में भारतीय जनता पार्टी के तमाम ब्राह्मण विधायकों, मंत्रियों, बोर्ड एवं निगमों के चेयरमैन तथा ब्राह्मण समुदाय के प्रमुख लोगों को बुलाया गया। बैठक में ब्राह्मण जनप्रतिनिधियों से पूछा गया कि हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की सिविल जूनियर इंजीनियर की परीक्षा में विवादित सवाल पूछने वाले मुख्य परीक्षक के विरुद्ध वे क्या कार्रवाई चाहते हैैं।

इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने ब्राह्मणों की नाराजगी दूर करने के लिए मामले की उच्च स्तरीय जांच भी कराने का निर्णय लिया है। शिक्षा मंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा के अनुसार, यह जांच कोई उच्च सक्षम अधिकारी करेगा। राज्य सरकार अतिरिक्त मुख्य सचिव स्तर के अधिकारी से जांच कराने को तैयार है। उन्होंने बताया कि 10 अप्रैल को हुई परीक्षा का प्रश्नपत्र सेट करने वाले मुख्य परीक्षक को पहले ही प्रतिबंधित कर दिया गया है। उसे डी-बार करते हुए राज्य सरकार ने मुख्य परीक्षक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने का भी निर्णय लिया है। यह मुकदमा पंचकूला में आज ही दर्ज हो सकता है।

भाजपा नेता एवं राज्यसभा सदस्य डीपी वत्स तथा ब्राह्मण नेता संजीव भारद्वाज ने सरकार के साथ हुई बातचीत पर संतोष जाहिर किया है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ब्राह्मणों की समस्त मांग मानने को तैयार हो गई है और अब कहीं कोई विवाद की स्थिति नहीं है। शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा के अनुसार, सोनीपत में धरने पर बैठे ब्राह्मण समाज के लोगों से भी बातचीत हो गई है और उन्हें राज्य सरकार के फैसले की जानकारी दे दी गई है। उनके द्वारा दिया जा रहा धरना उठाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल के विदेश जाने के बाद भी इस पूरे मामले को लेकर राजनीति की जाती रही। मुख्यमंत्री ने विदेश से आते ही कमान संभालते हुए दिल्ली एयरपोर्ट पर ही ब्राह्मणों को बातचीत के लिए बुला लिया था, जिसके बाद अब आयोग के चेयरमैन के खिलाफ कार्रवाई करने का अहम फैसला लिया जा चुका है।

मंत्रियों में भी था भारती के खिलाफ आक्रोश

हरियाणा के विपक्षी राजनीतिक दल तो आयोग द्वारा विवादित सवाल पूछे जाने का विरोध कर ही रहे थे, लेकिन राज्य सरकार के मंत्रियों में भी विवादित सवाल पूछे जाने पर कड़ी नाराजगी थी। हरियाणा के शिक्षा मंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा और कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ पहले ही अपनी नाराजगी जता चुके थे। वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने भी बुधवर को अपनी नाराजगी से आयोग के चेयरमैन तथा मुख्यमंत्री को वाकिफ करा दिया था। राज्यसभा सदस्य डीपी वत्स भी विवादित सवाल पूछे जाने का विरोध कर रहे थे।

बता दें कि हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग द्वारा अायोजित जूनियर सिविल इंजीनियर की लिखित परीक्षा में प्रश्‍न पत्र में ब्राह्मणों से जुड़े एक विवादास्पद सवाल पूछा यगा था। मामला संज्ञान में आते ही हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने खेद जताते हुए तत्काल प्रभाव से इस प्रश्न को हटाते हुए दोषी अफसर के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति की थी।

10 अप्रैल को ली गई इस परीक्षा में 75वें नंबर के सवाल में पूछा गया था कि कौन-सा हरियाणा में अपशकुन नहीं माना जाता है? जवाब में चार विकल्प दिए गए जिसमें पहला खाली घड़ा, दूसरा फ्यूल भरा कास्केट, तीसरा काले ब्राह्मण से मिलना और चौथा ब्राह्मण कन्या को देखना था।

विवाद के बाद हटाया सवाल, आयोग ने कहा- दोषी पर हाेगी कार्रवाई

परीक्षा की उत्तर कुंजी में सही उत्तर ब्राह्मण कन्या को देखना दर्शाया गया है। इसे इश्यू बनाते हुए अखिल भारतीय ब्राह्मण आरक्षण संघर्ष समिति ने कई स्थानों पर प्रदर्शन करते हुए पूछा कि क्या काले ब्राह्मण से मिलना अपशकुन है? इसके साथ ही दोषियों पर केस दर्ज करने की मांग को लेकर विभिन्न स्थानों पर ज्ञापन सौंपे गए।

यह खबर आप हिन्दी रोजगार समाचारपत्र  दैनिक एक्स्प्रेस वेबसाइट के द्वारा पढ़ रहे है।

कृप्या अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आए तो ज्यादा से ज्यादा शेयर एवम् लाइक करे:-www.fb.com/dainikexpress

हम खबरें छिपाते नहीं छापते है।

 

Filed in: Jobs

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!