3:34 am - Tuesday April 17, 2018

हरियाणा में एक भी युवक को नहीं रहने दूंगा बेरोजगार: खट्टर

चंडीगढ़, 1 मार्च- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार प्रदेश में किसी भी नौजवान को बेरोजगार व खाली नहीं रहने देगी, इसके लिए सरकार ने विभिन्न क्रंातिकारी कदम उठाए हैं, जो आज तक न तो पिछली सरकारों ने उठाए हैं और न ही देश में अब तक किसी अन्य राज्य ने उठाए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के युवकों को रोजगार दिलाने के लिए उनके कौशल को निखारने की आवश्यकता हैं और इस उदेश्य के लिए सरकार राज्य के पलवल जिला के दुधौला गांव में हरियाणा कौशल विकास विश्वविद्यालय की स्थापना कर रही है जो कि देश का पहला ऐसा अनूठा विश्वविद्यालय होगा जहां पर आवश्यकता के अनुरूप विभिन्न पाठयक्रमों को संचालित करके युवकों को रोजगारपरक बनाया जाएगा।
मुख्यमंत्री आज गुरुग्राम में हरियाणा राज्य औद्योगिक एवं अवसरंचना विकास निगम कार्यालय के आडिटोरियम में राष्ट्रीय एप्रेंसटिसशिप प्रोमेाशन योजना एवं सक्षम साथी इकाईयों को सम्मानित करने के लिए आयोजित किए गए एक कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने 22 उद्योगों व ईकाईयों से आए हुए सक्षम साथियों को सम्मानि त भी किया। ये सभी सक्षम साथी राष्ट्रीय एप्रेंसटिसशिप प्रोमेाशन योजना के तहत ब्रांड एम्बेसडर भी हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य के युवकों को रोजगार दिलाने के उदेश्य से सरकार प्रदेश में उद्योगों को स्थापित कर रही हैं ताकि प्रदेश का कोई भी युवक बेरोजगार न रहें। उन्होंने कहा कि जीएसटी आने से पहले राज्य सरकारें अपने प्रदेश में उद्योगों को राजस्व अर्जित करने के लिए आमंत्रित करती थी परंतु जीएसटी अधिनियम आने के पश्चात इसकी रूपरेखा में बदलाव हुआ है और अब जिस राज्य में सबसे अधिक खपत होगी उस राज्य को राजस्व अधिक प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि इन सबके बावजूद हरियाणा सरकार प्रदेश में उद्योगों को स्थापित कर रही है ताकि राज्य के युवकों के लिए ज्यादा से ज्यादा रोजगार सृजित हो सकें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हमें अपने युवकों में कौशल को निखारना हैं ताकि वे किसी न किसी क्षेत्र में माहिर हो सकें। उन्होंने कहा कि आज व्यवसाय के प्रकार बदल रहे हैं और कौशल के माध्यम से ही व्यवसाय किया जा सकता हैं। उन्होंंने कहा कि नौजवानों की शक्ति को दिशा दी जाएगी जिससे वे अपने कार्यों में व्यस्त रहेंगो, वे गलत कार्यों में लिप्त नहीं होगें और गलत राह पर नहीं पडेंगे। मुख्यमंत्री ने खाली दिमाग शैतान का घर होता है, कि कहावत पर दो किस्से भी उपस्थित उद्यमियों से सांझा किए ।

उन्होंने कहा कि इस उदेश्य के तहत ही राज्य सरकार ने प्रदेश के पढे-लिखे युवाओं के लिए सक्षम युवा योजना को बनाया और इस योजना के तहत विशेष श्रेणी में पोस्ट-ग्रेेजूयट युवाओं को 100 घंटे का काम दिया जाता है और इसके बदले इन युवाओं को 9000 रुपए तक का मानदेय दिया जा रहा हैं। इसी प्रकार, विशेष श्रेणी में ग्रेजूयेट युवाओं को भी 100 घंटे काम के बदले 7500 रूपए तक का मानदेय दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने बताया कि अब तक इस योजना के तहत 48000 आवेदन प्राप्त हो चुके हैं और सरकार ने लगभग 15000 युवाओं को 100 घंटे का काम दिया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार की प्राथमिकता प्रदेश में काम करने की है और इन प्राथमिकताओं में बडी प्राथमिकता जन सामान्य को सुखी रखने की हैं। उन्होंने कहा कि समाज में किसी भी योजना के लिए पात्र व्यक्ति तक उस योजना का लाभ मिलें, इस व्यवस्था को ठीक करना हैं। उन्होंने कहा कि आज हमारे यहां 65 प्रतिशत आबादी 35 वर्ष तक की हैं अर्थात नौजवान लोग ज्यादा हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा में आज पांच लाख लोग बेरोजगार हैं और ऐसे बेरोजगार युवकों का कौशल हम सबको मिलकर निखारना हैं। उन्होंने कहा कि गैर-सरकारी संस्थानों को 2.5 प्रतिशत से 10 प्रतिशत तक एप्रैंनटिशशिप रखने का प्रावधान हैं, इसलिए हम सबको ऐसे युवकों को रोजगारपरक बनाना है ताकि वह अपनी आजीविका अर्जित कर सकें।
उन्होंने राज्य की पिछली सरकारों पर प्रहार करते हुए कहा कि पिछली सरकारों ने भर्ती प्रणाली में गडबडिय़ां कर रखी थी। उन्होंने कहा कि आज 20 हजार से अधिक नौकरियां ऐसी हैं,जिनकी भर्ती रूकी हुई है और ये ऐसी भर्तियां हैं जिनके साक्षात्कार व परीक्षाएं तथा भर्ती प्रक्रिया पूरी हो चुकी है, परंतु कोई न कोई कोर्ट में चला जाता है।

मुख्यमंत्री ने उद्योगों से आए हुए प्रतिनिधियों से अपील करते हुए कहा कि वे प्रदेश के युवाओं को कौशल बनाने में अपना बढ़-चढक़र योगदान दें ताकि राज्य के युवाओं को रोजगारपरक बनाया जा सकें। उन्होंने इस अवसर पर 22 उद्योगों से आए हुए प्रतिनिधियों अर्थात सक्षम साथियों को सम्मानित होने के लिए बधाई व शुभकामनाएं भी दी।
इससे पहले, कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि और राज्य के उद्योग मंत्री श्री विपुल गोयल ने मुख्यमंत्री व उपस्थित लोगों को होली के त्यौहार की बधाई देते हुए कहा कि विपक्ष के साथी कहते हंै कि हरियाणा सरकार उद्योग पलायन कर रहे हैं परंतु इस बात का अंदाजा इसी से ही लगाया जा सकता हैं कि हरियाणा को राष्ट्रीय एप्रेंसटिसशिप प्रोमेाशन योजना के तहत चैम्यिन आफ चेंज के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इसके अलावा, प्रदेश में युवाओं के कौशल को निखारने के लिए हरियाणा राज्य कौशल विकास विश्वविद्यालय स्थापित किया जा रहा है और विभिन्न कौशल से संबधित कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की अगुवाई में राज्य की ऐसी औद्योगिक नीति बनाई गई जिसमें हितधारकों की टिप्पणियां ली। उन्होंने विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि वर्ष 2016 में इंवेस्ट सम्मिट के दौरान 3 लाख 79 हजार करोड़ रुपए के समझौते हुए जबकि इस सम्मिट में एक लाख करोड के समझौतों की आशा की जा रही थी। उन्होंने कहा कि यहीं से पता चलता है कि हरियाणा में उद्योगों को किस प्रकार बढावा दिया जा रहा है और राज्य में उद्योग स्थापित हो रहे हैं।

यह खबर आप हिन्दी रोजगार समाचारपत्र  दैनिक एक्स्प्रेस वेबसाइट के द्वारा पढ़ रहे है।

कृप्या अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आए तो ज्यादा से ज्यादा शेयर एवम् लाइक करे:-www.fb.com/dainikexpress

हम खबरें छिपाते नहीं छापते है।

 

Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!