11:33 am - Saturday April 21, 2018

नौकरियों के मुद्दे पर विरोधियों को चित्त करने की तैयारी में भाजपा

हरियाणा की भाजपा सरकार अपने साढ़े तीन साल के कार्यकाल में दी गई सरकारी नौकरियों पर विपक्ष को चित्त करने की तैयारी में है। भाजपा सरकार और संगठन के प्रतिनिधि अब उन सभी युवाओं के घर का दरवाजा खटखटाएंगे, जिन्होंने अपनी मेहनत के बूते राजनीतिक सिफारिश के बिना सरकारी नौकरी हासिल की है।

साढ़े तीन साल के कार्यकाल में दी गई नौकरियों को कैश करेगी पार्टी और सरकार

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपनी पार्टी के सभी विधायकों, मंत्रियों और भाजपा जिलाध्यक्षों से कहा है कि वे उन युवाओं के घर जाएंं, जिन्हें सरकारी नौकरी मिली है। ऐसे युवाओं का उनके घर और सार्वजनिक स्थानों पर अभिनंदन किया जाए।

भारतीय जनता युवा मोर्चा के पदाधिकारी राज्य सरकार के मंत्रियों, विधायकों और जिलाध्यक्षों का इस काम में सहयोग करेंगे। सरकारी नौकरियां हासिल करने वाले युवाओं का भरोसा जीतकर भाजपा ने पहली लड़ाई तो जीत ली, अब इन युवाओं की विचारधारा के जरिए पार्टी और सरकार उन युवाओं में भी संदेश देना चाहती है, जो बरसों से सरकारी नौकरियां हासिल करने की लाइन में लगे हुए हैं और अभी तक उन्हें सिफारिश के लिए राजनेताओं के यहां चक्कर काटने पड़ रहे हैं।

हरियाणा सरकार ने अपने साढ़े तीन साल के कार्यकाल में करीब 52 हजार पदों पर नौकरियां निकाली हैं। इनमें से 30 हजार से अधिक पदों पर ज्वाइनिंग हो चुकी है और बाकी पदों पर ज्वाइनिंग की प्रक्रिया चल रही है। करीब 12 हजार नौकरियां ऐसी हैं, जो कानूनी बाधाओं का शिकार हैं। अब इन नौकरियों का पेंच निकालने के लिए सरकार ने अदालतों में मजबूत पैरवी करने का निर्णय लिया है।

इसके लिए राज्य के एडवोकेट जनरल समेत पूरी टीम को अलर्ट कर दिया गया है। अधिकारियों से कहा जा रहा है कि वे तमाम उन रास्तों का विकल्प पेश करें, जिन्हें अपनाकर कानूनी बाधाएं दूर हो सकती हैं और रुकी हुई भर्तियों को गति मिल सकती है।

प्रदेश सरकार जल्द ही चतुर्थ श्रेणी के करीब 34 हजार पदों पर भी भर्तियां करने जा रही है। इसके अलावा तमाम उन विभागों से उनकी रिक्वायरमेंट मांगी गई है, जहां पर खाली पद भरने की दरकार है। दरअसल, हरियाणा में सरकारी नौकरियां बरसों से बड़ा मुद्दा रही है। इन नौकरियों के आवंटन में जातिवाद और क्षेत्रवाद के साथ-साथ पैसे के लेनदेन के आरोपों से कोई अछूता नहीं रहा है। कुछ आरोप मौजूदा सरकार में भी लगे, लेकिन ऐसे आरोप सामने आने के तुरंत बाद उन पर सरकार ने कार्रवाई कर यह संदेश देने की कोशिश की है कि कुछ भी गलत बर्दाश्त नहीं होगा।

‘ बदलेगा हरियाणा तो बढ़ेगा हरियाणा ‘

” हमने अपनी पार्टी के लोगों खासकर युवा मोर्चा के सदस्यों से कहा है कि वे उन लोगों के घरों में जाएं, जहां सरकारी नौकरियां आई हैं। ऐसे लोगों से उनकी राय पूछें। उनके परिवार के सदस्यों से बात करें। वे कैसा महसूस कर रहे हैं। बिना सिफारिश और बिना पैसे के नौकरियां हासिल करने पर उनकी क्या सोच है। फिर उनकी सोच को समाज के बाकी लोगों तक पहुंचाया जाए। इस सोच के आधार पर बाकी युवा अपने भविष्य के परिणाम के प्रति आशान्वित हो सकते हैं।

– सुभाष बराला, अध्यक्ष एवं विधायक, हरियाणा भाजपा।

यह खबर आप हिन्दी रोजगार समाचारपत्र  दैनिक एक्स्प्रेस वेबसाइट के द्वारा पढ़ रहे है।

कृप्या अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आए तो ज्यादा से ज्यादा शेयर एवम् लाइक करे:-www.fb.com/dainikexpress

हम खबरें छिपाते नहीं छापते है।

 

Filed in: Jobs, News

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!