1:36 pm - Thursday November 15, 2018
Kindle Fire Coupon Kindle Fire Coupon 2012 Kindle DX Coupon 2012 Kindle Fire 2 Coupon Amazon Coupon Codes 2012 Kindle DX Coupon PlayStation Vita Coupon kindle touch coupon amazon coupon code kindle touch discount coupon kindle touch coupon 2012 logitech g27 coupon 2012 amazon discount codes

गले की फांस बनी रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल, सरकार ने दिया वार्ता का न्योता

किलोमीटर स्कीम के विरोध में पांच दिन से चल रही हरियाणा रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल प्रदेश सरकार के लिए गले की फांस बनती दिख रही है। सियासी रंग लेती जा रही हड़ताल में जहां कांग्रेस-इनेलो सहित दूसरी राजनीतिक पार्टियां कूद पड़ी हैं, वहीं विभिन्न महकमों के हजारों कच्चे-पक्के कर्मचारी खुलकर रोडवेज कर्मचारियों के समर्थन में आ गए हैं।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हड़ताली कर्मचारियों को रविवार को चंडीगढ़ में परिवहन सचिव व महानिदेशक के साथ वार्ता का न्योता दिया है, लेकिन रोडवेज तालमेल कमेटी ने साफ कर दिया कि वार्ता केवल सीएम के साथ होगी। सरकार कमेटी को वार्ता का लिखित निमंत्रण भेजे तभी वह वार्ता की टेबल पर बैठेंगे।

शनिवार को सरकारी स्कूलों में बड़ी संख्या में शिक्षकों ने काले बिल्ले लगाए। रविवार को मजदूर संगठन सीटू व सर्व कर्मचारी संघ की अगुवाई में विभिन्न महकमों के कर्मचारी मंत्रियों एवं विधायकों के आवासों का घेराव कर प्रदर्शन करेंगे। सारा दिन परिवहन विभाग के अफसर और रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी के पदाधिकारी अलग-अलग रणनीति बनाते रहे।

हड़ताल के पांचवें दिन स्कूल-कॉलेज खुलने से निजी शिक्षण संस्थानों की 300 बसें ही यात्रियों के लिए उपलब्ध हो पाईं। एक रोज पहले शिक्षण संस्थाओं की 463 बसें सड़कों पर उतरी थी। हालांकि दूसरे महकमे के चालकों की मदद से रोडवेज की करीब 700 बसें छोटे रूटों पर चलाई गईं, लेकिन इससे लोगों को कोई ज्यादा राहत नहीं मिल सकी।

रोडवेज कर्मचारी तालमेल कमेटी ने 22 अक्टूबर तक बसों का चक्का जाम जारी रखने का एलान कर रखा है। यूनियन पदाधिकारियों हरिनारायण शर्मा, वीरेंद्र धनखड़, दलबीर किरमारा, अनूप सहरावत, जयभगवान कादियान, इंद्र सिंह बधाणा, शरबत पूनिया, बलवान सिंह दोदवा व नसीब जाखड़ ने कहा कि सोमवार तक 720 बसें चलाने का निर्णय वापस नहीं लिया तो हड़ताल बेमियादी होगी। कर्मचारी नेताओं ने कहा कि अफसरों से वार्ता की बात कर सरकार कर्मचारियों को गुमराह करने की कोशिश कर रही है। मुख्यमंत्री खुद वार्ता करें क्योंकि उन्हीं के स्तर पर मसले का समाधान संभव है।

उधर, मुख्यमंत्री लगातार हड़ताल को लेकर अफसरों से ग्राउंड रिपोर्ट ले रहे हैं। उन्होंने परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार, प्रधान सचिव राजेश खुल्लर और परिवहन सचिव धनपत सिंह को हिदायत दी कि अनुबंध आधार पर चालक-परिचालकों की तुरंत भर्ती कर बसें चलवाई जाएं, ताकि लोगों को राहत मिले। एसीएस ने सीएम को बताया कि सभी डिपुओं पर आवेदन पत्र लिए जा रहे हैं और करीब 30 हजार युवाओं के आवेदन करने की उम्मीद है। इनमें काफी संख्या में लड़कियां नौकरी के लिए आगे आई हैं।

मुख्यमंत्री ने दी आमजन की परेशानियों की दुहाई

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हड़ताली कर्मचारियों से अपील की कि वे आमजन की कठिनाई व त्योहार के सीजन को देखते हुए जल्द काम पर लौट आएं। यूनियन पदाधिकारी रविवार दोपहर बारह बजे महानिदेशक कार्यालय में अफसरों के साथ वार्तालाप के लिए आएं। उनकी सभी जायज मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक कार्रवाई की जाएगी।

Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*