12:24 am - Wednesday May 23, 2018

हरियाणा सरकार ने ऐसे मानक तय कर दिए, जो पूरे ही नहीं सकते क्योंकि कहीं उसकी पढ़ाई ही नहीं होती है।

हरियाणा सरकार ने रोडवेज में हेल्पर टायरमैन के 91 पदों पर भर्ती के लिए ऐसे मानक तय कर दिए, जो पूरे ही नहीं सकते क्योंकि कहीं उसकी पढ़ाई ही नहीं होती है। याचिका पर सुनवाई करते हुए पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने भर्ती प्रक्रिया पर रोक लगा दी है। प्रदीप कुमार व अन्य ने हाईकोर्ट को एडवोकेट विवेक के ठाकुर के माध्यम से एक याचिका दायर की है।

याचिका में बताया गया कि हरियाणा सरकार ने हरियाणा रोडवेज में हेल्पर टायरमैन के 91 पदों के लिए विज्ञापन जारी किया है। इस विज्ञापन में भर्ती से जुड़ी शर्तें और योग्यता मानक भी दर्ज किए गए थे। याची इन पदों केलिए आवेदन करना चाहते थे परंतु इसके लिए जो शर्त रखी गई थी उसको पूरा कर पाना किसी भारतीय के लिए संभव नहीं है।

याची ने बताया कि शर्त के अनुसार दो योग्यता मानकों में से किसी एक को पूरा करना अनिवार्य बताया गया। पहला मानक हेल्पर टायरमैन के तौर पर 2 वर्ष की ट्रेनिंग का रखा गया जबकि रोडवेज 6 माह की ट्रेनिंग या अपरेंटिस करवाती है और आईटीआई पास करने वालों के लिए भी 6 माह की ट्रेनिंग ही होती है। इसके अतिरिक्त दूसरी शर्त यह थी कि आवेदक किसी आईटीआई से टायरमैन का कोर्स किए हों।

याची ने कहा कि देश का कोई भी आईटीआई टायरमैन ट्रेड में कोर्स नहीं करवाता है। इसके साथ ही नेशनल काउंसिल फॉर वोकेशनल ट्रेनिंग द्वारा भी ऐसा कोई कोर्स नहीं करवाया जाता। याची ने कहा कि इस सबसे यह स्पष्ट होता है कि इस पोस्ट के लिए कोई भी भारतीय आवेदन ही नहीं कर सकता। ऐसे में इस प्रक्रिया पर रोक लगाने की अपील की गई थी।

जस्टिस राजीव नारायण रैना ने इस अर्जी पर सुनवाई करते हुए हरियाणा सरकार सहित हरियाणा रोडवेज व अन्य को नोटिस जारी करते हुए जवाब दाखिल करने के आदेश दिए हैं।

यह खबर आप हिन्दी रोजगार समाचारपत्र  दैनिक एक्स्प्रेस वेबसाइट के द्वारा पढ़ रहे है।

कृप्या अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आए तो ज्यादा से ज्यादा शेयर एवम् लाइक करे:-www.fb.com/dainikexpress

हम खबरें छिपाते नहीं छापते है।

 

Filed in: Jobs

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!