8:26 pm - Monday December 11, 2017

हरियाणा स्टाफ सेलेक्शन कमिशन में पेपर लीक मामले की एसआईटी ने पूरी की जांच

तीन माह बाद आखिरकार एसआईटी ने हरियाणा स्टाफ सेलेक्शन कमिशन की क्लर्क भर्ती के भिवानी में हुए पेपर लीक कांड की जांच पूरी कर ली है। टीम की योजना है कि इसी सप्ताह सरकार को इस संबंध में रिपोर्ट दे दी जाए।

इस रिपोर्ट के बाद ही आयोग यह तय करेगा कि यह पेपर रद्द किया जाए या फिर इसे मान लिया जाए। स्टेट क्राइम ब्रांच एजीपी और एस आइटी के इंचार्ज सौरभ सिंह ने जांच पूरी होने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि फाइनल रिपोर्ट तैयार कर ली गई है। इस जांच रिपोर्ट पर सात लाख उम्मीदवारों की नजर टिकी हुई है। कमिशन ने यह परीक्षा पिछले साल 13 नवंबर से 11 दिसंबर के बीच परीक्षा आयोजित की थी।

11 दिसंबर को भिवानी में सांय काल की परीक्षा में एक परीक्षार्थी के पास से आंसर की मिली थी।तभी से इस पेपर पर सवाल उठ रहे हैं। कुछ लोगों का मानना है कि पेपर लीक हुआ कुछ का मानना है कि पेपर लीक नहीं हुआ, यह नकल भर का मामला है। हालांकि ज्यादातर उम्मीदवारों का कहना है कि पेपर लीक हुआ है। जिसे बहुत ही योजना के साथ अंजाम दिया गया है।

हर पहलू पर जांच का दावा :- एसआईटी ने इस मामले की हर पहलू से जांच की है। मामला क्योंकि कमिशन की परीक्षा से जुड़ा हुआ है, इसलिए टीम ने फूंक फूंक कर कदम रखा है। टीम का जोर इसी को लेकर है कि क्या यह पेपर लीक है। लीक हुआ था कैसे? लीक पेपर कहां तक पहुंचा। इन सवालों को केंद्र में रख कर ही पुलिस ने जांच की है।

सूत्रों के मुताबिक फौरी तौर पर ही माना जा रहा है कि लीक हुआ है पेपर जांच :- टीम के सूत्रों के मुताबिक फौरी तौर पर ही माना जा रहा है कि पेपर लीक हुआ है। वाट्सएप से इसे भेज कर आंसर की हल कराई गई थी। इस को फिर उम्मीदवारों तक भिजवाया गया है। टीम के एक सीनियर सदस्य ने बताया कि अब इसे कमिशन पेपर लीक मानता है या फिर नकल का मामला, यह उनका अपना नजरिया हो सकता है।

इसको लेकर बचाव क्यों: उम्मीदवार इधर, कुछ उम्मीदवारों ने कहा कि जिस परीक्षा पर सवाल उठ रहे हैं, इसे लेकर इतना बचाव क्यों? पेपर दोबारा क्यों नहीं कराया जा रहा है इस बारे में आयोग को निर्णय लेना चाहिए। वहीं कुछ उम्मीदवार ऐसे भी है जिनका कहना है कि यदि आयोग ने इस पेपर की परीक्षा को रद्द नहीं किया तो वें कोर्ट में जाएंगे। क्योंकि आयोग का जिस तरह का रवैया अभी तक हैं, इससे लगता है कि कहीं कहीं गड़बड़ी है।

ज्यादातर उम्मीदवार ऐसे है जिनका कहना है कि यदि आयोग को जल्दी से जल्दी परिणाम निकाल के क्लर्क भर्ती पूर्ण करनी चाहिए 

Filed in: Jobs

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!