1:36 pm - Thursday November 15, 2018
Kindle Fire Coupon Kindle Fire Coupon 2012 Kindle DX Coupon 2012 Kindle Fire 2 Coupon Amazon Coupon Codes 2012 Kindle DX Coupon PlayStation Vita Coupon kindle touch coupon amazon coupon code kindle touch discount coupon kindle touch coupon 2012 logitech g27 coupon 2012 amazon discount codes

रिपोर्ट / हरियाणा में 79% स्टूडेंट्स मोबाइल एडिक्शन के शिकार, ज्यादातर 10 से 25 साल के

  • दिल्ली में 98%, यूपी में 82%, पंजाब में 93%, बिहार में 89% बच्चे मोबाइल एडिक्शन के शिकार हैं
  • रोहतक पीजीआई का बिहेवियरल एडिक्शन क्लीनिक ला रहा आदत में सुधार
  • मुंबई के लीलावती अस्पताल की पीजीआई से साझा की गई रिपोर्ट में खुलासा

आजकल बच्चे औसतन 5 से 6 घंटे स्मार्टफोन पर बिता रहे हैं। मुंबई के लीलावती अस्पताल की पीजीआई से साझा की गई रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक हरियाणा में 79%, दिल्ली में 98%, यूपी में 82%, पंजाब में 93%, बिहार में 89% बच्चे मोबाइल एडिक्शन के शिकार हैं।

ऐसे बच्चों के उपचार के लिए रोहतक पीजीआई में बिहेवियरल एडिक्शन क्लीनिक खोला गया है। यहां 6 माह में ही 36 गंभीर मोबाइल एडिक्ट स्टूडेंट्स पहुंच चुके हैं। इनमें से 83 फीसदी 10 से 25 वर्ष तक के हैं। क्लीनिक का जिम्मा संभाल रहे साइकोलॉजिस्ट डॉ. विनय कुमार बताते हैं कि पीजीआई प्रपोजल भेजने की तैयारी में है कि स्कूल टीचर्स की ट्रेनिंग कराई जाए ताकि वे बच्चों को मोबाइल के खतरों से बचा सकंे। पीजीआई के मानसिक स्वास्थ्य संस्थान के निदेशक व सीईओ डाॅ. राजीव गुप्ता ने बताया कि मोबाइल एडिक्ट मरीजों का उपचार बिहेवियरल थैरेपी से किया जाता है।

मोबाइल एडिक्ट का काउंसिलिंग से बदल गया जीवन 

केस-1 : 10 साल का बच्चा मां-बहन को गलत तरीके से छूने लगा 
झज्जर की एक महिला 10 साल के बच्चे को लेकर क्लीनिक आई। बताया कि वह मोबाइल बच्चे को दे देती थी। कुछ दिन बाद बच्चे ने बहन व मां को गलत तरीके से छूना शुरू कर दिया। मोबाइल की हिस्ट्री चेक करने पर पता चला कि वह अश्लील वेबसाइट देखता है।
अब : 14 दिन में 2 बार काउंसिलिंग की गई। मां ने मोबाइल ले लिया। अब बच्चा स्कूल से आने के बाद सो जाता है। फिर पढ़ाई कर शाम को खेलने जाता है।

केस-2 : 7 घंटे तक मोबाइल पर लगी रहती थी 20 साल की छात्रा 
बीए पास 20 वर्षीय छात्रा क्लीनिक आई। परिजनों ने बताया कि बीए पास करने के बाद उसने इंटरनेट पर नौकरी की तलाश शुरू की। 6 से 8 घंटे मोबाइल का प्रयोग करने लगी। नौकरी न मिलने से डिप्रेशन में चली गई। माता-पिता से बात करना तक बंद कर दिया।

अब : 4 माह में 12 बार काउंसिलिंग हुई। अब रात के 8 बजे ही मोबाइल बंद कर देती है। माता-पिता से एक-दो घंटे बातचीत करती है।

केस-3 : मां ने फोन गिफ्ट दिया, वापस मांगने पर सुसाइड की धमकी दी 
10वीं में अच्छे नंबर आने पर रोहतक की महिला ने बेटे को गिफ्ट में स्मार्टफोन दिया। बेटा 8 से 10 घंटे तक मोबाइल इस्तेमाल करने लगा। स्कूल व ट्यूशन छोड़ दिया। महिला ने मोबाइल वापस लेने का प्रयास किया तो उसने आत्महत्या की धमकी दी।
अब : 6 माह में 20 बार काउंसिलिंग कराई गई। मोबाइल मां को वापस कर दिया। अब वह नियमित रूप से स्कूल और ट्यूशन जाने लगा है।

यह खबर आप हिन्दी रोजगार समाचारपत्र  दैनिक एक्स्प्रेस वेबसाइट के द्वारा पढ़ रहे है।

कृप्या अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आए तो ज्यादा से ज्यादा शेयर एवम् लाइक करे:- www.fb.com/dainikexpress

हम खबरें छिपाते नहीं छापते है।

 

Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*