7:39 am - Tuesday January 23, 2018

हिसार में भी ‘गुड़िया’ से रेप के बाद दरिंदगी, गुप्तांग में लकड़ियां डालकर मार डाला

केंद्र अौर प्रदेश में बेटी बचाअो, बेटी पढ़ाअो के नारे झूठे साबित हो रहे हैं। यहां मासूम बच्चियां घिनौने अपराधों का शिकार हो रही है। एक ऐसा ही मामला हिसार के उकलाना में सामने आया है जिसने पूरे प्रदेश का सिर शर्म से झुका दिया है। यहां पांच साल की बच्ची के साथ दिल्ली के निर्भया कांड अौर शिमला के गुड़ियां केस से भी भयानक अौर दिल दहला देने वाली घटना हुई है। उकलाना में कबाड़ चुनकर अपना गुजारा करने वाले गरीब परिवार की बेटी को दरिंदे ने उठा लिया अौर उस 5 साल की मासूम से दुष्कर्म किया। इतना ही नहीं दरिंदे ने हैवानियत की सारी हदें पार करते हुए बच्ची के नाजुक अंगों पर प्रहार किया है। भेड़िए हत्यारे ने मासूम को नोच-नोच कर मारा डाला। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

तंबू से उठाकर दुष्कर्म कर की हत्या मृतक बच्ची की मां ने बताया कि वह अपनी दो बेटियों के साथ तंबू में सो रही थी। रात को नौ बजे तक वे जागते रहे अौर उसके बाद सो गए। देर रात को किसी अज्ञात ने उनकी 5 साल की छोटी बेटी का अपहरण कर उकलाना की टेलिफोन एक्सचेंज के पास ले गया। जहां उस दरिंदे ने उस मासूम के साथ दुष्कर्म किया अौर उसके नाजुक अंगों पर भी प्रहार किया है। जिसके कारण मासूम की मौत हो गई। सुबह जब उन्होंने बेटी को तंबू में नहीं देखा तो उसको ढूंढा। जिसके बाद उनकी बेटी का शव टेलिफोन एक्सचेंज के पास लहूलुहान हालत में मिला। जिसे बुरी तरह से नोचा हुआ था और पूरे शरीर पर जख्म मिले हैं।

घरों में सुरक्षित नहीं बच्चे अौर अौरतें मृतक बच्ची की चाची ने कहा कि उनकी बच्ची को घर से उठाकर मार डाला। ऐसे में गरीब लोगों की बच्चियां अौर अौरतें कहां सुरक्षित हैं? आज उनकी 5 साल की बच्ची को दुष्कर्म के बाद मार डाला। ऐसे में कल उन्हें बी उठा लिया जाएगा। इस घटना से पूरे मौहल्ले की अौरतें सहमी हुई हैँ।

मौके पर पहंचे कांग्रेस के प्रदेश महासचिव इस घटना की सूचना के बाद मौके पर पहुंचे कांग्रेस के प्रदेश महासचिव व पूर्व विधायक नरेश सेलवाल ने कहा कि जो उकलाना में पांच साल की बच्ची के साथ हुआ वह दिल्ली की निर्भया से भी दर्दनाक है। आज हमारी बेटियां अपने घरों में भी सुरक्षित नहीं है। अपराधी उनको घरों से उठाकर ले जाते हैं और दुष्कर्म करके मार देते हैं। ऐसे में कानून व्यवस्था पूरी तरह से फ्लाप साबित हुई है। भाजपा सरकार ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे और जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार किया जाए।

मीडिया से बिना बात किए निकली एसपी
घटनास्थल पर जानकारी लेने के लिए हिसार की एसपी मनीषा चौधरी जिले के तमाम अधिकारियों के साथ पहुंची। उन्होंने घटनास्थल का दौरा किया और मृतक बच्ची के परिजनों से बातचीत की और मामले की पूरी जानकारी ली। जब मीडिया ने उनसे बात करनी चाही तो उन्होंने बात करने से मना कर दिया।

गुड़िया से भी हुई थी दरिंदगी ऐसी ही दरिंदगी शिमला के कोटखाई में गुड़िया से हुई थी। 4 जुलाई 2017 को अचानक गायब हो जाने के बाद 6 जुलाई को जंगल में उसकी लाश मिली थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि मरने से पहले उसका गैंगरेप हुआ था। गुड़िया चीखे-चिल्लाए न इसलिए दरिंदों ने पहले तीन मिनट तक हाथों से मुंह बंद कर सांसें रोकी। इससे वह बेहोश हो गई। इस दौरान उसके साथ दुष्कर्म हुआ। इस बीच, मासूम का गला दबाया गया। इससे उसकी मौत हो गई। अपराध में एक से ज्यादा व्यक्ति संलिप्त थे। गुड़िया के गर्दन से नीचे काटने के चार निशान थे। प्राइवेट पार्ट में भी चोट के निशान थे।

हरियाणा में भी लागू हो मध्यप्रदेश जैसा कानून हरियाणा में मासूम से हुई दरिंदगी को देखते हुए वहां भी मध्यप्रदेश जैसा कानून लागू होना चाहिए। ताकि दरिंदे इस प्रकार की हैवानियत न कर सके। मध्यप्रदेश में एक कानून पारित किया गया जिसके तहत 12 या उससे कम उम्र के लड़कियों के साथ बलात्कार के दोषियों के लिए न्यूनतम 14 साल तक कारावास और अधिकतम मौत की का प्रावधान किया गया है। 12 या उससे कम उम्र की लड़कियों के सामूहिक बलात्कार के लिए न्यूनतम सजा 20 साल निर्धारित की गई है। ऐसे मामलों में ट्रायल कोर्ट फांसी तक की सजा दे सकेगी। रेप और गैंगरेप के अलावा विवाह के बहाने यौन उत्पीड़न या अन्य प्रलोभनों के आधार पर सेक्स के लिए मजबूर करने पर भी यह सजा लागू होगी।

 

Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!