7:58 am - Thursday April 19, 2018

बंदूक जमा कराने SSP दफ्तर पहुंचा, बोला जब अपराध ही नहीं हो रहे तो बंदूक का क्या करेंगे साहब

देश के कई राज्यों में लोग बन्दूक के लाइसेंस बनवाने के लिए दर-दर भटक रहे हैं, लाखों खर्च कर शस्त्र लाइसेंस बनवा रहे हैं ताकि अपनी एवं अपने परिवार की अपराधियों से हिफाजत कर सके लेकिन उत्तर प्रदेश से एक अजीब खबर आ रही है। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में एक बुजुर्ग वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पहुंच कर अपनी बंदूक जमा कराने का आग्रह किया। मुज्जफरनगर के छपार थाना क्षेत्र के भेसा रेडी गांव निवासी मुख्तार राही ने बदमाशों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई के चलते एसएसपी अनंत देव तिवारी को बधाई दिया। कहा कि पहले खेतों में जाते हुए डर लगता था, शाम होते ही खेतों से घर की ओर से भाग लेते थे और अब चारों और भयमुक्त वातावरण है। उन्होंने कहा कि पहले ये बन्दूक हमारी रक्षा करती थी अब हम इसकी रक्षा कर रहे हैं। अब जब शहर में न अपराध है और न अपराधी तो हम इस बन्दूक को रखकर क्या करेंगे इसलिए हमारी बन्दूक अब जमा कर ली जाए।

मालुम हो कि इस जिले में पुलिस द्वारा लगातार अपराधियों के एन्काउण्टर में आधा दर्जन से भी अधिक बदमाशों को ऊपर भेज दिया है जबकि सैकड़ों बदमाश जेल पहुँच गए और कइयों ने आत्म समर्पण कर दिया। जो जेल में हैं वो बाहर नहीं आना चाहते। अकेले मुजफ्फरनगर में पुलिस और बदमाशों के बीच पचास से अधिक मुठभेड़ हो चुकी हैं। एसएसपी अनंत देव तिवारी का कहना है कि आए हुए वृद्ध मुख्तार राही बहुत ही भावुक हो गए थे। उन्होंने अपना व्यक्तिगत अनुभव साझा करते हुए अपना 12 बोर का लाइसेंसी बंदूक जमा कराने को कहा। अपना लाइसेंसी जमा कराकर यह संदेश देना चाहते हैं कि पहले के समय में अब के समय में काफी बदलाव आ गया है और अपराधियों पर अंकुश लग रहा है। बताया कि पहले वो लोग खेतों में भी काम करने रात को नहीं जा पाते थे और एक बार खेत सिंचाई के लिए मेढ़ काट देते थे तो दुबारा खेतों में जाने की हिम्मत नहीं होती थी। अब खुलकर रात में भी घुम सकतें हैं।

यह खबर आप हिन्दी रोजगार समाचारपत्र  दैनिक एक्स्प्रेस वेबसाइट के द्वारा पढ़ रहे है।

कृप्या अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आए तो ज्यादा से ज्यादा शेयर एवम् लाइक करे:-www.fb.com/dainikexpress

हम खबरें छिपाते नहीं छापते है।

 

Filed in: News

No comments yet.

Leave a Reply

*

error: Content is protected !!